Pages

टॉप 15 हिंदी ब्लॉग - वर्ष 2012

52 comments:
साल 2009 के बाद किसी पोस्ट पर पूरा एक दिन लग गया। सभी ब्लॉग पर जाकर उसकी एलेक्सा रैंक (Alexa rank) देखना व सम्बंधित जानकारी लेना बहुत ही कठिन काम है। साल 2009 में हिंदी ब्लॉगिंग के लिए मैंने विभिन्न ब्लॉगों की तुलना करके टॉप 10 ब्लॉगों की सूची [link] तैयार की थी। इसके बाद ब्लॉगों की एलेक्सा रैंक (Alexa rank) की तुलना का दौर हर साल चला। वर्ष 2010 में एलेक्सा रैंक (Alexa rank) की तुलना करके 25 टॉप ब्लॉगों की सूची [link] श्री ज़ाकिर अली ने अपने ब्लॉग 'मेरी दुनिया मेरे सपने पर' जारी की थी। इसके बाद 2011 में यह काम श्री रतन सिंह शेखावत ने अपने ब्लॉग पर 'ज्ञान दर्पण' पर किया था जहाँ पर उन्होंने 20 ब्लॉगों की सूची [link] तैयार की थी। पोस्ट प्रकाशन के बाद शहनवाज़ भाई ने बताया कि उन्होंने भी 2011 में एक ऐसी ही तालिका तैयार की [link] थी लेकिन मुझे उनकी सूची से ज़्यादा वो पोस्ट पसंद आयी जिसके अंतर्गत वो तालिका थी।

एलेक्सा रैंक (Alexa rank) की सबसे मज़ेदार बात यह है कि यह रोज़ ही बदलती है और हर तीन महीने में बड़े बदलावों को देखा जा सकता है। जैसा कि मैंने पिछली एलेक्सा सम्बंधित पोस्ट में बताया था कि किसी ब्लॉग या साइट की एलेक्सा रैंक (Alexa rank) इस बात पर निर्भर करती है कि वह दिन में कितनी बार देखा जाता है और साथ ही ब्लॉग/साइट के कितने पेज देखे जाते हैं।

2009, 2010 और 2011 की तुलना करें तो बहुत बड़े बदलाव दर्ज़ हुए हैं, रैंकिंग में बहुत उठा-पटक हुई है। बहुत आगे रहने वाले ब्लॉग इस सूची से अपना स्थान खो चुके हैं। इसके कई कारण हैं जिनकी चर्चा इस पोस्ट का उद्देश्य नहीं है।

Myths about a good blog - एक अच्छे ब्लॉग के लिए मापदण्ड से जुड़े भ्रम


1. बहुत से मित्र मानते हैं कि जिन ब्लॉग/साइट पर अब तक सबसे ज़्यादा पेज विजिट का विजेट लगा हो तो वो अच्छा ब्लॉग है इसके लिए बहुत लोग अपने आँकड़ों को बढ़ाकर दिखाते हैं ताकि आने वाला पाठक उससे प्रभावित होकर बार-बार आये। कोई भी आपके ब्लॉग पर क्यों आता है इसका अनुमान आप नहीं लगा सकते हैं। कोई टिप्पणी करके टिप्पणी पाना चाहता है तो कोई अपना ब्लॉग फॉलो करवाना चाहता है तो कोई आपका माल चुराकर उसमें फेर-बदल करके अपना बनाने की कोशिश करता है। लेकिन आवश्यकता है आपने वास्तविक पाठकों को पहचानने व उनसे सम्बंध घनिष्ठ करने की।

2. कई मित्र मानते हैं कि जिन ब्लॉग पर अधिक टिप्पणियाँ हों, वो अच्छे ब्लॉग हैं जबकि टिप्पणियाँ कभी भी इसका मापदण्ड नहीं रहीं वरना टॉप ब्लॉगों की लिस्ट में उलट-पलट हो जाती। टिप्पणियाँ मात्र मन को संतुष्ट करती हैं लेकिन कितनी सच्ची होती हैं ये बात आप स्वयँ सोचें। मैं श्री अमित अग्रवाल के ब्लॉग की बात करूँ तो उनका ब्लॉग विश्व में सबसे अधिक पढ़े जाने वाले ब्लॉगों में से है जिस पर उन्होंने टिप्पणियाँ बंद कर रखी हैं। उनके ब्लॉग की एलेक्सा रैंक (Alexa rank) 2000 है इसका मतलब है वो ब्लॉग दिन में हज़ारों बार नहीं लाखों बार पढ़ा जाता है।

3. पेज रैंक की बहुत अहमियत है लेकिन यह हिंदी ब्लॉगों पर तकनीकि कारणों से इतनी प्रभावी नहीं हो पाती है वैसे भी यह सिर्फ़ अच्छा और एकदम हटकर लिखने वालों पर अपनी कृपा दिखाती है। इसके लिए आपके ब्लॉग पोस्टों की चर्चा भी अच्छी जगहों पर होनी आवश्यक है कौन-सी जगह अच्छी है और कौन-सी खराब यह निर्णय भी खुद गूगल ही करता है। आपने एक गलत ब्लॉग पर अपना बैकलिंक दिया तो समझिए 'सावधानी हटी और दुर्घटना घटी'। कुछ लोग कहीं कोई पोस्ट पढ़कर अपने ब्लॉग की जाली/नकली पेज रैंक [Fake Page Rank] दर्शाते हैं। उनको इस काम से बचना चाहिए। पेज रैंक धीरे-धीरे एक अंतराल में बढ़ती है।

आज के दौर में यह समय है भ्रांतियों के मायाजाल से निकलने का और अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर मान्य पैमानों को समझने और अपनाने का। अपने अंर्तजाल पर किये गये कार्य को उत्कृष्ट बनाने के लिए कुछ अलग कीजिए, उस कार्य की वास्तविक समझ रखने वालों से दोस्ती करिए और अपने वास्तविक ग्राहक/पाठक तलाशिए ताकि आप अपने कार्य की सफलता सुनिश्चित कर सकें।

नीचे जो ब्लॉग तालिका में हैं उन्होंने सच में ब्लॉगिंग और उससे जुड़ी तकनीक को लम्बे समय से समझा और अपनाया है। तो अब पेश हैं एलेक्सा रैंक (Alexa rank) के अनुसार वर्ष 2012 के सर्वाधिक लोकप्रिय ब्लॉग। यदि आपका ब्लॉग तालिका में स्थान रखता है तो आपको सहस्र बधाइयाँ। इस तालिका में अपना स्थान बनाने वाले चार ब्लॉग ऐसे हैं जिनके एक ही डोमेन (Domain) पर सब-डोमेन (Sub-Domain) बनाकर एक से अधिक ब्लॉग चल रहे हैं, इसलिए उन्हें एक से अधिक ब्लॉगों की संयुक्त रैंक प्राप्त है। इनके आगे ब्लॉगों की संख्या को दर्शाया गया है।

Top 15 Hindi Blogs of year 2012 - वर्ष 2012 के सर्वाधिक लोकप्रिय ब्लॉग


#Blog NameBlog URLAlexa Rank (Global)Alexa Rank (India)Followers
1Tech Prévue · तकनीक दृष्टाhttp://techprevue.blogspot.in177,91721,3591,119
2हिंदी 2 टेक (2 ब्लॉग)http://www.hindi2tech.com287,43335,192657
3Safarnaamaa सफ़रनामाhttp://amitaag.blogspot.in290,91137,142217
4जिज्ञासाhttp://pramathesh.blogspot.in338,68634,435163
5हिंदयुग्म (8 ब्लॉग)http://www.hindyugm.com446,865 68,387NA
6संवाद (6 ब्लॉग)http://www.samwaad.com467,74488,134537
7अपनी हिंदीhttp://www.apnihindi.com512,58249,2062619
8ज्ञान दर्पण (3 ब्लॉग)http://www.gyandarpan.com641,34162,947491
9छींटें और बौछारेंhttp://raviratlami.blogspot.in642,82576,959659
10गुलाबी कोंपलेंhttp://vinayprajapati.blogspot.in711,13279,762248
11Computer Duniyahttp://www.hinditechguru.com756,14059,123526
12धर्म-चक्रhttp://www.dharmchakra.in758,439106,79015
13कस्बाhttp://naisadak.blogspot.in885,17873,542NA
14एक शाम मेरे नामhttp://ek-shaam-mere-naam.blogspot.in920,029229,179244
15न दैन्यं न पलायनम्http://praveenpandeypp.blogspot.in950,778142,648399
16प्रेमरस.कॉमhttp://www.premras.com966,26367,548163
17चर्चामंचhttp://charchamanch.blogspot.in996,605106,970927

जिन मित्रों का ब्लॉग उपरोक्त तालिका में नहीं है उन्हें निराश नहीं बल्कि तालिका में स्थान पाने वाले के ब्लॉग के ब्लॉगर मित्रों से जुड़कर अच्छे सम्बंध बनाने चाहिए। अच्छे सम्बंध और सच्चाई के साथ किया गया काम ही हमें मनोवांछित फल दिलाता है अर्थात्‌ भविष्य में आपके आपके ब्लॉग की एक अच्छी रैंक सुनिश्चित करता है। हमें विरोध और विरोधी तत्वों से बचना चाहिए। ब्लॉगिंग के बदलते युग में सभी से मित्रता ही हमारा पहला ध्येय होना चाहिए।

विशेष:
यदि आपके ब्लॉग की एलेक्सा रैंक (Alexa rank) 6 अंकों में है अर्थात्‌ 999,999 या उससे कम है तो हमें अवश्य भेजिए। हम उसे इस तालिका में अवश्य स्थान देंगे। एक सप्ताह के बाद अनुरोध स्वीकार नहीं किये जायेंगे।

ध्यान दें: इस पोस्ट का उद्देश्य किसी ब्लॉग या ब्लॉगर को किसी भी तरह कम आँकने या तुलना करने का नहीं है। तुलना सिर्फ़ और सिर्फ़ ब्लॉग की एलेक्सा रैंक (Alexa rank) की की गयी है जिसको 09-11-2012 को दर्ज़ किया गया है। रैंक प्रतिदिन बदलती है इसलिए रैंकों में थोड़ी घट-बढ़ हो सकती है।

Alexa Rank की अधिक जानकारी के लिए यहाँ क्लिक करें।



आपकी टिप्पणियाँ, प्रश्न एवं सुझाव

Blogger Disqus
comments powered by Disqus

52 comments:

  1. mahendra mishra10/11/2012 11:00

    badhiya janakari di hai ... abhaar

    ReplyDelete
  2. manuprakashtyagi10/11/2012 11:04

    बढिया जानकारी । वैसे अलेक्सा रैंक पाने के लिये काफी काम खुद को करने पडते हैं जबकि गूगल पेज रैंक शायद खुद ही देता है तो अगर आपने इस पर कोई पोस्ट पहले लिखी हो तो उसका लिंक जरूर दें नही लिखा हो तो जरूर लिखें

    ReplyDelete
  3. विनय भाई आपको बधाई ......स्वीकार करे

    ReplyDelete
  4. ये सब आपके स्नेह का फल है

    ReplyDelete
  5. गूगल पेज रैंक पाने के लिए अच्छा SEO करना पड़ता है जबकि एलेक्सा रैंक पाने के लिए ब्लॉगिंग या अपने प्रोड्क्ट पर ध्यान देता होता है। SEO पर बहुत सी पोस्टें हैं नेवीगेशन मीनू से आप SEO वाली पोस्ट पढ़ सकते हैं।

    ReplyDelete
  6. वाह, छींटे और बौछारें को यहाँ देख कर अच्छा लगा.

    ReplyDelete
  7. सर आपाको बधाई आप तो 3 वर्षों से लगातार हर लिस्ट में है...

    ReplyDelete
  8. varun kumar10/11/2012 13:33

    वाह क्या बात हैँ आपकी जानकारी का मोल नही अनमोल हैँ आपने जो लिस्ट पेश कि वाकई बहुत अच्छा हैँ जबकि टेचक्युन जो कि हिन्दी के सबसे अच्छा ब्लाँग कि लिस्ट लगा रखी हैँ वह बहुत ही घटिया हैँ इतने फेमस ब्लाँग TOP15 मे केवल दो तीन ब्लाँग के उसमेँ नाम हैँ उसकी लिस्ट ही बेकार हैँ ।

    ReplyDelete
  9. varun kumar10/11/2012 13:47

    औटोमेटिक एक ब्लाँग के पोस्ट दुसरे ब्लाँग करने का कोई उपाय हो तो बताए मेनुअल मेँ जब हम मैनेज करेगेँ तभी होगी जबकि औटोमेटीक सिस्टम कर दिया जाए तो मेनुअल नही करना पडेगा

    ReplyDelete
  10. Amit Agarwal10/11/2012 14:28

    Hearty congrats Vinay! Glad to find my blog here too :)

    ReplyDelete
  11. क्या आप उनके ब्लॉग की पोस्ट लिंक दे सकते हैं?

    ReplyDelete
  12. जैसे ही इसका उपाय मिलता है मैं आपको ईमेल से सूचित कर दूँगा।

    ReplyDelete
  13. कुछ दिन पहले तक ज्ञान दर्पण.कॉम की रैंक २ लाख के अन्दर थी पर झटके से साढ़े छ: लाख पहुँच गयी :(

    ReplyDelete
  14. कोई बात नहीं फिर से अपने मकाम तक पहुँच जायेगी।

    ReplyDelete
  15. kavita rawat10/11/2012 17:41

    बढ़िया जानकारी प्रस्तुति के लिए धन्यवाद

    ReplyDelete
  16. आपका तकनीक दृष्टा पर अभिवादन है

    ReplyDelete
  17. gajadhar dwivedi10/11/2012 23:21

    is riport se pata chalata hai ki apae kitani mehanat ki hogi. dusaron ke liye itana shram yani lok kalyan ki is bhavana ke liye dhayabad.

    ReplyDelete
  18. Apko badhai Sir, aapka blog bhi is talika mein apani jagah bana chuka hai dhero shubhkamanayein,

    ReplyDelete
  19. Deepak Kripal11/11/2012 05:42

    useful information..

    ReplyDelete
  20. virendra sharma11/11/2012 10:24

    Good job buddy .

    ReplyDelete
  21. virendra sharma11/11/2012 10:26

    Blogger FAQ - अक्सर पूछे जाने वाले प्रश्नों के उत्तर →
    टॉप 15 हिंदी ब्लॉग - Top 15 Hindi Blogs (2012)

    ReplyDelete
  22. virendra sharma11/11/2012 10:26

    Blogger FAQ - अक्सर पूछे जाने वाले प्रश्नों के उत्तर →
    टॉप 15 हिंदी ब्लॉग - Top 15 Hindi Blogs (2012)


    शुक्रिया इस जानकारी के लिए .दिवाली मुबारक .

    ReplyDelete
  23. आपको भी दिवाली मुबारक़

    ReplyDelete
  24. virendra sharma11/11/2012 15:22

    "लाइक "

    2012/11/11 Disqus

    ReplyDelete
  25. Navin Prakash11/11/2012 19:34

    अच्छी कोशिश है। आपकी मेहनत झलकती है,

    टॉप और बॉटम का तो कुछ कह नहीं सकता हाँ ये सभी ब्लॉग हिंदी में अच्छा योगदान कर रहे हैं इसमें कोई शक नहीं है।

    ReplyDelete
  26. आपकी बात बिल्कुल सही है, अभिनंदन

    ReplyDelete
  27. http://pramathesh.blogspot.in/

    ReplyDelete
  28. आपके ब्लॉग को तालिका में शामिल कर लिया गया है। :)

    ReplyDelete
  29. अरे वाह विनय भाई.... अच्छा प्रयास... अपना ब्लॉग भी इस लिस्ट में देख कर अच्छा लगा... :-)

    वैसे ऐसी ही एक कोशिश पिछले वर्ष मैंने भी की थी... लेकिन उसके बाद अचानक हिंदी ब्लोग्स की एलेक्सा रैंकिंग धम से गिर गई.... पता नहीं क्यों? :-(

    एलेक्सा रैंकिंग और हिंदी ब्लॉग्स

    ReplyDelete
  30. हुआ ये की हिंदी के ब्लॉगर जो मुख्यता कविताएँ और चुटकुले करते थे फेसबुक पर चले गये और वहाँ अपनी रचनाएँ पोस्ट करके वहीं वाह-वाही पाने लगे। इसके दूरगामी परिणाम गलत होने वाले हैं क्योंकि फेसबुक की नयी नीतियों के तहत 1 वर्ष पुरानी कोई वाल संदेश सुरक्षित नहीं रखा जाएगा। आपकी पोस्ट तो जाएगी ही साथ-साथ वाह-वाही में ले जायेगी। अपना ब्लॉग अपने घर जैसा होता है जहाँ क्या रहेगा और क्या नहीं ये आप स्वयं निर्धारित करते हैं।

    ReplyDelete
  31. Manish Kumar15/11/2012 16:05

    किसी भी साइट की लोकप्रियता के कई मापदंड हो सकते हैं और एलेक्सा उनमें से एक है। जैसा कि आपने कहा कि इन सारे मापदंडों में अगर कोई चाहे तो मैनिपुलेशन कर सकता है। पर सवाल ये है कि जो अपने लेखन के बारे में गंभीर होगा वो ऐसा क्यूँ करेगा। विगत छः सात वर्षों के ब्लागिंग करते हुए अपने ब्लॉग की लोकप्रियता के आकलन के लिए मैंने पेजलोड्स और ई मेल सब्सक्राइबर को काफी सही सूचक पाया है। प्रशंसक या फौलोवर्स के लिए भी अब अलग टूल आ गए हैं। फेसबुक का नेटवर्क ब्लॉग भी फौलोवर्स का एक अच्छा टूल है जिसे आप अपने आकलन में स्थान दे सकते थे।

    बहरहाल आपने जो सबकी एलेक्सा रैंक खोजने और क्रमबद्ध करने में मेहनत की है उसके लिए आप बधाई के पात्र हैं।

    ReplyDelete
  32. मेरे ब्लॉग को शामिल करने के लिए धन्यवाद

    ReplyDelete
  33. अच्छी चीज़ लोकप्रिय भी हो इससे अच्छी बात कोई क्या हो सकती है। पर अक्सर लोकप्रियता की दौड़ में अच्छी चीज़ें पीछे रह जाती हैं। इसके तमाम कारण हैं। पाठकों और दर्शकों की रुचि सुधरे और उनकी समझ का दायरा बढ़े, ऐसी कोशिश होनी चाहिए। इस बात को स्वीकार किया जाना चाहिए कि जानकारी और समझ के स्तर पर हमें अभी काफी दूर जाना है।

    ReplyDelete
  34. साँच को आँच क्या? रैंक तो सबके प्यार से मिली है तो मैंने नहीं सबने चुना है आपके ब्लॉग को इस तालिका के लिए... :D

    ReplyDelete
  35. आपके विचारों की रोशनी दूर तक फैल रही है, स्वागत है

    ReplyDelete
  36. मनीष कुमार जी एलेक्सा विश्वस्तरीय पैमाना है जिसे गूगल भी नहीं नकारता है लेकिन फीडबर्नर और नेटवर्कड्ब्लॉग अभी इस स्तर पर नहीं उनके ऊपर कोई मेहनत करे। क्योंकि फ़ीडबर्नर पर दिखने वाली संख्या में गूगल सर्च जैसे अन्य सर्च इंजनों की बॉट संख्या भी शामिल रहती है जिससे कि पाठकों का सही अनुमान नहीं हो पाता है और नेटवर्क ब्लॉग में ग्रुपबाजी के आँकड़े हो सकते हैं। किसी भी प्रकार की तुलना मान्य सर्वेक्षणों पर ही की जा सकती है। आशा है आप मेरी बात को समझ रहे होंगे।

    ReplyDelete
  37. deepak kumar15/11/2012 19:36

    नई जानकारी के लिए शुक्रिया! सच बताउं तो मुझे इसके बारे में अभी तक कोई भी आइडिया नहीं था। आगे से हम भी इसमें जुड़ने की कोशिश करेंगे।

    ReplyDelete
  38. आपका हार्दिक स्वागत है

    ReplyDelete
  39. Manish Kumar16/11/2012 01:31

    फीड़बर्नर वाली बात तो समझ आई पर ग्रुपबाजी तो गूगल पर follow करने की भी हो सकती है। पेजलोड्स संख्या अगर कोई मैनिपुलेट ना करे तो सबसे सरल उपाय है एक ब्लॉगर के लिए अपने ब्लॉग की लोकप्रियता आँकने का क्यूंकि एलेक्सा रैंक जिस तरह बढ़ती घटती है उसे समझ पाना एक आम ब्लॉगर के लिए बेहद मुश्किल है.मुझे तो लगता है कि अगर Content की विविधता और नवीनता बनी रहे तो ब्लॉग खुद बा खुद लोकप्रियता की सीढ़ियाँ चढ़ता जाएगा।

    ReplyDelete
  40. आपकी बात में बहुत दम है, आज ब्लॉग फॉलो करने में बहुत ग्रुप बाजी में कमी आयी है लेकिन कुछ एक वर्ष पहले तक इसका प्रकोप था, यदि आप किसी ब्लॉग पर कमेंट न दें और उसे फॉलो न करें तो कोई न तो आपका ब्लॉग फॉलो करता था और न ही आपके ब्लॉग पर कमेंट देता था। धीरे-धीरे सभ्य और सुलझे ब्लॉगर ब्लॉगिंग में आ रहे है जो निष्काम भाव से आपका पढ़कर सुविधा और समयानुसार टिप्पणियाँ करते हैं। आपकी टिप्पणी की अंतिम पंक्ति सत्य वचन है जिसे कोई नहीं नकार सकता है।

    ReplyDelete
  41. Kulwant Happy02/12/2012 07:43

    यह गलत है या सहीं पता नहीं दोस्‍त, युवा सोच युवा खयालात की http://www.alexa.com/siteinfo/yuvarocks.com यहां देख सकते हैं ग्‍लोबल एवं भारत स्‍तर पर

    2,236,690

    Global Rank



    131,845

    ReplyDelete
  42. @kulwant, युवारॉक्स को देखा अच्छा लगा लेकिन इसकी रैकिंग अभी 6 अंकों के भीतर नहीं है :(

    ReplyDelete
  43. कृपया हमारी ब्लॉग लिंक पर पधार कर अलेक्सा रेंकिंक पर नज़र डालें....और अपनी सूची में शामिल करने का कष्ट करें...आभार.

    ReplyDelete
  44. मेरा ब्लॉग लिंक है- http://allexpression.blogspot.in/

    ReplyDelete
  45. @Anulata nair ji... aapki request accept kar li gayi lekin avedan 1 week tak hi accept kiye jaate hai

    ReplyDelete
  46. नयी पुरानी हल्चल की अलेक्सा रैंक--ग्लोबल -

    916,796, और इंडियन-
    53,513 है।

    सादर

    ReplyDelete

// टिप्पणी के सामान्य नियम
1. हम आपसे टिप्पणी में सभ्य शब्दों के प्रयोग की अपेक्षा करते हैं।
2. हम आपसे लेख के बारे में वास्तविक राय की अपेक्षा करते हैं।
3. यदि आप विषय के अतिरिक्त कोई अन्य जानकारी चाहते हैं तब हम आपको फ़ोरम में प्रश्न पूछने के लिए प्रेरित करते हैं।

अगला लेख
Newer Post
पिछला लेख
Older Post
Home