Ads (728x90)

जब कभी हम इंटरनेट ब्राउज़र "Internet Browser" की बात करते हैं तो मोज़िला फ़ायरफ़ॉक्स "Mozilla Firefox" ख़याल अनायास ही आ जाता है। अगर बात की जाए तो इससे स्थिर और बेहतर ब्राउज़र शायद ही कोई है। इसमें अनेक गुण हैं जिनके विषय में चर्चा की जाए तो एक ब्लॉग लिखा जा सकता है। इसके सबसे नये संस्करण के बारे में बात करें तो इसमें एक बहुत ही अच्छी सुविधा मौजूद है, जिसका प्रयोग आप सभी को अवश्य करना चाहिए। यह सुविधा सिंक "Sync" कहलाती है। जिसका प्रयोग करके आप फ़ायरफ़ॉक्स के बुकमार्क, ब्राउज़िंग इतिहास, सहेजे गये पासवर्ड, फ़ायरफ़ॉक्स ऐड-आंस, खोली गयी टैब्स और सेटिंग्स "Bookmarks, History, Passwords, Add-ons, Tabs and Preferences" को फ़ायरफ़ॉक्स सर्वर पर सहेज सकते हैं। जिससे आप अपने कम्प्यूटर को फ़ार्मेट "Format Computer" करने के बाद जब भी फ़ायरफ़ॉक्स इंस्टाल करेंगे तो आप सिंक सुविधा का प्रयोग करके सारी सामग्री और सेटिंग्स वापस पा सकते हैं। इसलिए आपको कम्प्यूटर फ़ार्मेट करने से पहले फ़ायरफ़ॉक्स सम्बंधित किसी चीज़ का बैकअप लेने की आवश्यकता नहीं रहती है। साथ ही कभी भी आप किसी दूसरे कम्प्यूटर पर अपने फ़ायरफ़ॉक्स की सेटिंग्स को लोड कर सकते हैं।

How to set up Firefox Sync

How to setup Firefox Sync?

आइए जानते हैं कि फ़ायरफ़ॉक्स सिंक को सेटअप "Set up Firefox Sync" किया जाता है। नीचे दिये गये स्क्रीनशॉट इस काम में आपकी पूरी मदद करेंगे।

1. सबसे पहले ऊपर दाहिनी ओर दिये फ़ायरफ़ॉक्स मीनू पर क्लिक कीजिए "Click on Firefox Menu"। फिर चित्रों के अनुसार सारे चरण पूरे कीजिए।
How to set up Firefox Sync

2. ऊपर बताये गये चरण पूरे करने बाद आपको एक वेरीफ़िकेशन ईमेल "Verification Email" प्राप्त होती है। जिसके द्वारा आप फ़ायरफ़ॉक्स सिंक एकाउंट को वेरीफ़ाइ कराते हैं।
How to set up Firefox Sync

3. फ़ायरफ़ॉक्स सिंक एकाउंट को वेरीफ़ाइ करा लेने के बाद आप यह चुन सकते हैं कि आप फ़ायरफ़ॉक्स सर्वर पर क्या-क्या सिंक करना चाहते हैं?
How to set up Firefox Sync

इस प्रकार ऊपर बताये गये सभी चरण पूरा करने बाद फ़ायरफ़ॉक्स सर्वर पर आपका डेटा सिंक "Sync Data to Firefox Server" होना शुरु हो जाता है। आपको इसके बाद कुछ नहीं करना पड़ेगा।

अतिरिक्त सहायता के लिए हम एक विडियो भी दे रहे हैं।



Keywords: Set up Firefox Sync, Firefox Sync, Bookmark Backup

Post a Comment

Blogger
  1. Replies
    1. आप भी सिंक कर लो! बैठो मत!

      Delete
  2. अभी तो पहली बार जाना इसे । उपयोग में लाता हूँ । बताने लायक समझ में नहीं आयेगा । आभार प्रविष्टि के लिये ।

    ReplyDelete
    Replies
    1. जी ज़रूर, अपने अनुभव सभी पाठकों के साथ अवश्य बाँटिए

      Delete
  3. उपयोगी और अद्यतन जानकारी के लिये साधुवाद।

    (मेरे खयाल से हिन्दी में बात-बात पर रोमन घुसा देना भद्दा लगता है और हिन्दी/देवनागरी के हित में नहीं है। 'synchronization' के स्थान पर 'सिन्क्रोनाइजेशन' लिखना चाहिये। ज्यादा से ज्यादा यज किया जा सकता है कि जब पहली बार यह शब्द आता है तब देवनागरी के साथ इसे रोमन में भी दे दिया जाय (जैसे- हिस्ट्री (history) ). इसके बाद धड़ल्ले से देवनागरी में लिखना चाहिये, भले ही शब्द अंग्रेजी का हो, अरबी का हो या रुसी का हो। क्योंकि तमाम सारे शब्द ग्रीक भाषा के हैं इसलिये तो हम उन्हें ग्रीक लिपि में नहीं लिखना शुरू कर दें। इसी तरह हिन्दी में बहुत से शब्द अरबी या फारसी के हैं इसलिये उन्हें देवनागरी के बीच-बीच में अरबी/फारसी लिपि में लिखें। ऐसा करने लगेगें तो कम से कम दस लिपियों का प्रयोग एक ही लेख में करना पड़ेगा। कौन उसे पढ़ पायेगा?)

    खैर बहुत उपदेश दे दिया। बुरा मत मानियेगा।

    ReplyDelete
    Replies
    1. न जी, आपका हिंदी में कार्य सराहनीय है, मैं आपके मन को समझ सकता हूँ

      Delete
  4. आपके द्वारा दी गयी जानकारी को समझ नहीं पाया हूँ इसका उपयोग समझने पर ही बात बनेगी |

    ReplyDelete
    Replies
    1. पोस्ट थोड़ा समय देने से बात बनेगी

      Delete
  5. It's really great,language should not be bar in tech support blogs. great post!

    ReplyDelete
    Replies
    1. Yes you're right but development of Hindi content is also necessary.

      Delete

(!) टिप्पणी के सामान्य नियम
1. हम आपसे टिप्पणी में सभ्य शब्दों के प्रयोग की अपेक्षा करते हैं।
2. हम आपसे लेख के बारे में वास्तविक राय की अपेक्षा करते हैं।
3. यदि आप विषय के अतिरिक्त कोई अन्य जानकारी चाहते हैं तब हम आपको फ़ोरम में प्रश्न पूछने के लिए प्रेरित करते हैं।
4. अगर आप हमारे नये लेखों की सूचना ईमेल पर चाहते हैं तो यहाँ क्लिक करें।